सरकारी विभाग

  • जिला मुजफरनगर
    श्रम विभाग मुजफरनगर
    श्रमिको एंव सेवायोजकों के मध्य सौहार्दपूर्ण सम्बन्धों को बढावा देंने के उद्देश्य से जनपद मुजफरनगर मे सहयक श्रमायुक्त एवं सहायक निदेशक कारखाना के कार्यालय कार्यरत है जनपद मे उक्त कार्यालयों का विवरण निम्नानुसार है-
     

     

    (बाल श्रम (प्रतिषेध एवं विनियमन) अधिनियम 1986)

    उक्त अधिनियम की धारा–3 के अनुसार बच्चे को (ऐसा व्यक्ति जिसने अपनी आयु का 14 वा वर्ष पूर्ण न किया हो। ) नीचे दिये हुए कार्य एवं प्रक्रियाओ में नियोजन को निषेा किया गया है :–
    (खतरनाक व्यवसाय जिनमें बाल श्रम वर्जित है )


    21

    साबुन बनाना।

    22

    चर्म/चमड़ें का शोधन/रंगना।

    23

    ऊन की सफाई

    24

    भवन और निर्माण उद्योग।

    25

    स्लेट, पेन्सिल का निर्माण (पैंकिंग सहित)

    26

    अगेट के उत्पादों (सुलेमानी पत्थर ) का निर्माण करना।

    27

    शीशी, मैग्नीज, पारा, क्रोनियम, कैडमियम, वैनजीन , कीटनाशक, और एसवेस्टस जेसे जहरीले पदार्थ का इस्तेमाल होने वाली विनिर्माण प्रक्रिायाए।

    28

    कारखाना अधिनियम 1948 (1948 का 63) की धारा 87 के अन्तर्गत बनाए गये नियमो में अधिसूचित खतरनाक कार्य जैसा कि धारा 2 (सीवी) में उल्लिखित हैं तथा जौखिम पूर्ण प्रक्रियायें।

    29

    कारखाना अधिनियम –1948 की (1948 धारा 63) की धारा 2 के परिभाषित द्वारा विनिर्माण प्रक्रिया।

    30

    काजू और काजू के छिलके उतारने की प्रक्रिया।

    31

    इलेक्ट्रोनिक उ़द्योग मे टांका लगाने ( सोल्डरिंग ) की प्रक्रिया।

    32

    अगरबत्ती का निर्माण।

    33

    आटोमोबाइल वर्कशॉप तथा गैराज, वैल्डिंग, इकाइयो ( लेथवर्क) डेन्टिंक एवं पेन्टिंग ।

    34

    ईटो का खापरैल का निर्माण

    35

    रूई सूत की औटाई और इसे दबाना, होजरी या सामान बनाना।

    36

    डिटरजेन्ट का निर्माण ।

    37

    लोहे अथवा अलोहे धातुओंकी ढलाई वर्कशॉप

    38

    रत्न तराशना तथा उनकी पॉलिश करना।

    39

    क्रियाइट और मैग्नीज अयस्कों की उठाई धराई ।

    40

    जूट के कपडों का निर्माण


     

      आगे>>